गोरखपुर । जहां भारत सरकार उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आम आदमी को  फ्री में  इलाज की सुविधा मुहैया कराई जा रही है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गिरा जनपद गोरखपुर में  भ्रष्टाचार रुकने का नाम नहीं ले रहा है । गोरखपुर में सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर संविदा कर्मचारी लूट कर रहे हैं ताजा मामला जनपद जनपद गोरखपुर के माल्हन पार प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का है । जहां पर मंजूर आलम ग्राम बभनौली थाना बांसगांव अपनी पत्नी को इलाज कराने के लिए लेकर आया । जहां पर संविदा पर तैनात साबरमती ने उसकी पत्नी की यूरिन जांच की और बाहर से दवाई लिखी जो ₹250 की आई । जाते समय साबरमती ने उसे रोक लिया और कहा कि मुझे फीस के ₹500 देकर जाइए । पीड़ित मंजूर ने बताया कि मैंने जब मैडम से कहा कि इस समय मेरे पास पैसे नहीं हैं तो मैडम ने डांटते धमकाते हुए कहा कि पैसे दीजिए वर्ना तुम्हारी घरवाली को यहीं रोक लिया जाएगा । मंजूर ने बताया कि उसकी जेब में ₹200 थे जो उसने साबरमती को दिए और साबरमती ने उसकी घरवाली को अस्पताल में ही रोक लिया और कहा कि पहले ₹300 लेकर आइए । जब मंजूर गांव गया और घर से ₹300 लेकर आया और अपनी घरवाली को आजाद कराया । यह हकीकत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद के सरकारी अस्पतालों की है । जहां पर उत्तर प्रदेश व भारत सरकार द्वारा ₹1 की पर्ची पर फ्री इलाज कराया जा रहा है । वहीं पर सरकारी अस्पतालों में तैनात कर्मी अपनी मनमर्जी व दबंगई से पैसे वसूल रहे हैं । अब देखना यह है कि गोरखपुर में बैठे सीएमओएस के तिवारी क्या कार्रवाई करते हैं । केटी लाई न्यू के लिए गोरखपुर से परशुराम यादव की रिपोर्ट
Share To:

Post A Comment: