दनकौर कस्बे में द्रोण नाट्य मंडल द्वारा  30 सितंबर से 8 अक्टूबर तक  शाम को 8:00 बजे से रामलीला का मंचन होगा।



दनकौर। दनकौर कस्बे में द्रोण नाट्य मंडल द्वारा 12 साल बाद स्थानीय कलाकारों द्वारा रामलीला का मंचन शुरू होगा। द्रोण नाट्य मंडल के कलाकारों ने पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी।
   रामलीला के आयोजकों ने बताया कि 30 सितंबर से 8 अक्टूबर तक  शाम को 8:00 बजे से रामलीला का मंचन होगा। रामलीला में राम लक्ष्मण का वन गमन, परशुराम लक्ष्मण संवाद, भरत मिलाप, खर दूषण वध, लंका दहन, कुंभकरण, मेघनाथ और अहिरावण वध और रावण वध के बाद राम का राज्याभिषेक रामलीला के प्रमुख आकर्षण होंगे।
    द्रोण नाटक मंडल पर 1970 से प्रारंभ हुई रामलीला 2007 तक स्थानीय कलाकारों द्वारा मंचित होती रही। 12 साल तक पर्दे पर शुरू हुई रामलीला के बाद अब स्थानीय कलाकारों द्वारा पुनः रामलीला का मंचन प्रारंभ होगा। रामलीला के 92 पात्रों की भूमिका 48 स्थानीय कलाकारों जिनमें दुकानदार, कारोबारी, व्यवसाई और नौकरी पैसे वाले कलाकार हैं भूमिका करेंगे। रामलीला के विभिन्न कलाकार पिछले 1 महीने से अपने अभ्यास में जुटे हैं। वह इसके लिए वह कोई पारिश्रमिक नहीं लेंगे। राम की भूमिका में सचिन एडवोकेट और लक्ष्मण की भूमिका का निर्वाह रियल एस्टेट में काम करने वाले प्रशांत गर्ग और सीता की भूमिका काजल करेंगी। रावण की भूमिका 3 कलाकार संदीप जैन, मनीष गर्ग मोनू और दीपक गर्ग करेंगे। 44 वर्ष से रूप सज्जा का काम देख रहे राजेंद्र बंसल सभी कलाकारों की रूप सज्जा का कार्य देखेंगे।
     इस अवसर पर राकेश कुमार तायल। मनीष गर्ग, अंकुर गोयल, मुकेश जैन, प्रेम चंद शर्मा, सुनील गोयल, राजीव सिंघल, पुनीत गोयल, सचिन, विकास गोयल, दीपक गर्ग, अशोक मित्तल आदि मौजूद रहे
Share To:

Post A Comment: