रिपोर्ट रामा नन्द तिवारी.. इंदौर
इंदौर। मध्यप्रदेश में सामने आए हाईप्रोफाइल हनीट्रैप मामले में गिरफ्तार महिलाओं ने कई चौकाने वाले खुलासे किये हैं। पूछताछ में उन्होंने कई नेताओं-अधिकारियों से सम्बंध होने की बात कबूली है और उन्होंने इन नेताओं-अधिकारियों से मोटी रकम वसूली है। इनमें आईएएस-आईपीएस, पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व मंत्री और पूर्व सांसद शामिल हैं। इतना ही नहीं, उन्होंने सरकारी विभागों में भी पैठ बनाकर अपने संस्थानों को करोड़ों का अनुदान दिलाया है। फिलहाल, मामले में जांच रही है और कई बड़े खुलासे होने की संभावना है। खूफिया एजेंसियां भी हर छोटे-छोटे बिंदुओं की जांच कर रही है। एटीएस, एसटीएफ और आईबी अफसर भी छानबीन कर रहे हैं।
श्वेता जैन है मास्टरमाइंड
पुलिस के अनुसार हनीट्रैप की मास्टरमाइंड मूलत: सागर की रहने वाली श्वेता जैन है। उसे जिस अधिकारी को ट्रैप में फंसाना होता था, आरती से उसकी मुलाकात करवाती थी। श्वेता शादी के पहले से ही विवादों में रही है। सागर में पदस्थ आईएएस अधिकारी के साथ आपत्तिजनक वीडियो भी सामने आया था। इसके बाद परिजनों ने उसकी शादी विजय जैन से शादी कर दी और वह भोपाल में रहने लगी।
भाई राजा जैन ने सरकारी विभागों में ठेके लेने शुरू कर दिए। श्वेता के नेताओं और अधिकारियों से संबंध होने के कारण राजा को ठेके आसानी से मिल जाते थे। एएसपी (क्राइम) अमरेंद्र सिंह के अनुसार इसी दौरान इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन भी श्वेता के संपर्क में आए। बाद में उसने साजिश के तहत उसकी मुलाकात आरती से करवा दी।
हरभजन सिंह ने पुलिस को बताया कि सीमा सोनी आरती दयाल की सहायक है। पहले दोनों ने मदद के बहाने बातचीत शुरू की थी। फिर वाट्सएप पर चैटिंग शुरू कर दी। शुरुआत में गुड मॉर्निंग, गुड इवनिंग के मैसेज और चुंबन व स्माइली भेजने लगी। इसके बाद निजी फोटो भेजना शुरू कर दिए। विश्वास बढ़ जाने पर गलत काम के लिए उकसाना शुरू किया और फिर उनके बीच दोस्ती प्रगाढ़ हो गई।
इस तरह हुई गिरफ्तारी
एसपी पूर्व मो. युसूफ कुरैशी ने बताया कि निगम इंजीनियर हरभजन सिंह पिता बख्तावर सिंह निवासी गुलमर्ग वैली गुलमोहर कॉलोनी ने बीते मंगलवार को शिकायत दर्ज करवाई थी कि कुछ महिलाएं ब्लैकमेल कर तीन करोड़ रुपये की मांग कर रही हैं। हरभजन ने पहली किश्त देने के लिए ब्लैकमेल करने वाली गिरोह की सदस्य को इंदौर बुलाया। जैसे ही वह राशि लेने पहुंची, पुलिस ने महिला व उसके सहायकों को हिरासत में ले लिया। पूछताछ के बाद पुलिस ने आरती (29) पत्नी पंकज दयाल निवासी मिनाल रेसीडेंसी भोपाल, मोनिका (18) पुत्री लाल यादव निवासी सवस्या नरसिंहगढ़, श्वेता (39) पत्नी विजय जैन निवासी मिनाल रेसीडेंसी भोपाल, श्वेता (48) पत्नी स्वप्निल जैन निवासी रेवेरा टाउनशिप भोपाल, बरखा (34) पत्नी अमित सोनी निवासी कोटरा सुल्तानाबाद भोपाल और ओमप्रकाश पुत्र रामहर्ष कोरी निवासी आदमपुर भोपाल को गिरफ्तार कर पूछताछ की, तो उन्होंने कई चौकाने वाले खुलासे किये। पुलिस ने उनके पास लैपटॉप, मोबाइल, कारें व 14 लाख रुपये नकद और कई अश्लील वीडियो जब्त किये थे।
पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपित आरती ने विजयनगर क्षेत्र की होटल में हरभजन का आपत्तिजनक वीडियो बनाया था। श्वेता जैन ने आरती व हरभजन को मिलवाया। वे वाट्सएप चैटिंग करने लगे और फिर मिलना तय किया। मुलाकात के दिन आरती दो घंटे पहले होटल पहुंची और मोबाइल की वीडियो रिकॉर्डिंग चालू कर छुपा दिया। फिर वीडियो भेजकर तीन करोड़ रुपये मांगे। मामला उजागर होने के बाद हरभजन छुट्टी पर चले हए। वे अमृत योजना के जल प्रदाय विभाग में अधीक्षण यंत्री पद पर कार्यरत हैं। पुलिस ने पांचों गिरफ्तार महिलाओं और एक ड्राइवर को गुरुवार शाम को अदालत में पेश कर 22 सितम्बर तक रिमांड पर लिया है। फिलहाल, पुलिस उनसे पूछताछ में जुटी है। पूछताछ में खुलासा हुआ है कि इन महिलाओं के भाजपा-कांग्रेस के कई प्रभावशाली नेताओं से संबंध हैं। वल्लभ भवन में कुछ अधिकारियों के यहां उनका सीधा आना-जाना था।
आठ नेताओं और पांच अधिकारियों के वीडियो क्लिप मिले
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आठ नेताओं और पांच अधिकारियों के वीडियो क्लिप इन महिलाओं के पास होने की संभावना है। पुलिस अभी सारे वीडियो और लैपटॉप की जांच कर रही है। क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि ज्यादातर वीडियो नेताओं और अफसरों के हैं, जिन्हें ये महिलाएं प्यार में फंसाकर ब्लैकमेल कर रहीं थीं।
आइये जानते हैं ‘गैंग्स ऑफ हनी ट्रैप’ के अहम क‍िरदारों के बारे में…
आरती दयाल
29 साल की आरती दयाल एक एनजीओ चलाती है जो मुख्य रूप से ग्रामीण इलाकों में काम के लिए सरकार से फंडिंग लेता है. ये मूल रूप से छतरपुर की रहने वाली है. सूत्रों के मुताबिक इसने छतरपुर में भी कई लोगों को हनी ट्रैप के जाल में फंसाया है. इसके बाद इसने भोपाल के मिनाल रेसीडेंसी को अपना ठिकाना बनाया. इंदौर में पकड़ी गई क्रेटा कार इसी के नाम पर रजिस्टर है.
श्रेता बिनोद जैन
39 साल की श्वेता व‍िनोद जैन मुख्य रूप से एक निजी कम्पनी की मालकिन है जो इसने पार्टनरशिप में शुरू की है. करीब 3 साल पहले शुरू की गई इस कम्पनी का काम थर्मल इन्सुलेशन उत्पादों को बनाना और बेचने का है. इसी के घर से पुलिस ने कार्रवाई के दौरान करीब 14 लाख रुपये बरामद किए थे. इसके घर से मर्सिडीज जैसी लग्जरी कार के कागज भी मिले हैं. ये वैसे तो सागर की रहने वाली है लेकिन बीते कई सालों से भोपाल की मि‍नाल रेसीडेंसी में रह रही है.
श्वेता स्वप्न‍िल जैन
48 साल की श्वेता स्वप्न‍िल जैन के बारे में अभी टीम और ज्यादा जानकारी जुटा रही है. बताया जा रहा है कि ये गिरोह की सबसे आकर्षक और सुंदर दिखने वाली महिला है जो वैसे तो राजस्थान की रहने वाली है लेकिन फिलहाल भोपाल की पॉश कॉलोनी रिवेरा टाउन में रह रही थी. यहां ये पूर्व मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह के मकान में किराए से रह रही थी. बताया जाता है कि इसको महंगी पार्टियों में जाने का शौक है और कई बार इसे बड़े नेताओं और रसूखदारों की पार्टी में भी देखा गया है.
बरखा भटनागर सोनी
34 साल की बरखा भटनागर सोनी पहले से ही एक सेक्स रैकेट चलाती आई है. वैसे तो इसका भी एक एनजीओ है जिसकी आड़ में इसका मंत्रालय आना-जाना काफी होता था. यहां इसने अफसरों से गहरी दोस्ती कर ली और न केवल एनजीओ के लिए पैसा लिया बल्कि कई सरकारी तबादलों में भी काफी रुपया कमाया. इसका पति अम‍ित सोनी मध्यप्रदेश कांग्रेस के आईटी सेल में था जिसे पहले ही निकाला जा चुका है. बरखा और उसके पति के कांग्रेस के कई नेताओं के साथ फोटो हैं जो पार्टी के अलग-अलग कार्यक्रमों के दौरान खिंचवाए गए और जिसे दिखाकर ये रौब झाड़ते थे.
मोनिका यादव
18 साल की मोन‍िका यादव इस गिरोह की सबसे कम उम्र की लड़की है जो फिलहाल एक कॉलेज में पढ़ाई कर रही है. ये भोपाल के पास राजगढ़ की रहने वाली है. इसने अपने खर्चे निकालने के लिए ये काम शुरू किया था लेकिन जब इसने देखा कि ब्लैकमेलिंग के धंधे में मुनाफा ज्यादा है तो ये गिरोह के साथ इस काम में लग गई. बताया जा रहा है कि आरती ने कई अफसरों और नेताओं के पास खुद की बजाय मोनिका को भेजा था. बाकी वक्त में मोनिका का काम फोन पर दिलकश बातें करने का होता था।
Share To:

Post A Comment: