रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार 

                            उनकी खाकी वर्दी के पीछे धड़कता है एक रहम दिल, जो इन्हें हर इंसान के दुखों मे शामिल होकर उनके कष्टों को दूर करने के लिए प्रेरित करता है।

श्री सुबोध कुमार जब ग्राम करोखी में मतदन स्थलों के निरीक्षण हेतु गए, तो उन्होंने देखा एक बालक #सत्यम जो कि गांव के ही स्कूल में कक्षा 8 में पढ़ता है, की आंखों की दृष्टि कमजोर है। इस कारण उसे पढ़ने-लिखने में भी काफी परेशानी होती है। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण सही उपचार नहीं मिल पा रहा है।
श्री सुबोध कुमार ने परिजनों से बात की और सत्यम को अपने साथ ऊखीमठ ले आये। वहां नेत्र चिकित्सक से आंखों का चैकअप कराया और चिकित्सक की सलाह पर सत्यम के लिए नजर के चश्मे भी बनवाये। चश्मे मिलने के बाद सत्यम काफी खुश हुआ क्योंकि अब उसे नजर संबंधी दोष से मुक्ति मिल चुकी थी और वह आसानी से पढ़ाई-लिखाई व अपने अन्य कार्य कर सकता था।
Share To:

Post A Comment: