ग्राहकों ने पोस्ट आफिस के एएसपी को बनाया बंधक

दनकौर पोस्ट ऑफिस में कार्यरत एक पूर्व पोस्ट मास्टर पर करीब डेढ़ लाख रुपए के गबन का आरोप लगा है। आरोपित द्वारा दर्जनभर  ग्राहकों के रुपयों को डाक विभाग में जमा नही किया गया था। हालांकि पीड़ित ग्राहकों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस द्वारा डाक विभाग के पूर्व पोस्टमास्टर को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया मगर ग्राहकों की धनराशि अभी तक वापिस नही मिल सकी। गुस्साए ग्राहकों ने ब्रहस्पतिवार को दनकौर स्थित पोस्ट आफिस पर भाकियू के कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान करीब एक घण्टे तक पोस्ट आफिस का काम बाधित रहा और पोस्ट आफिस के कर्मचारियों समेत बुलंदशहर डाक विभाग के असिस्टेंट सुपरिडेंटेंट ऑफ पोस्ट आफिस केपी सिंह को धूप में अपने साथ बिठा लिया। दरअसल दनकौर के उप डाकघर में काम करने वाले पूर्व पोस्ट मास्टर प्रवीण सिंह द्वारा उपभोक्ताओं के पैसे लेकर उन्हें सरकारी रिकॉर्ड में नहीं चढ़ाने का आरोप है। पूर्व पोस्ट मास्टर पर आरोप है कि उन्होंने दर्जनों ग्राहकों से पैसा लेकर उसे उनकी पासबुक में तो चढ़ा दिया लेकिन सरकारी रिकॉर्ड में उसे दर्ज नहीं किया और  ना ही उस पैसे को डाकखाने में जमा किया। ग्राहकों का पैसा स्वयं ही पोस्ट मास्टर ने हड़प लिया। ग्राहकों द्वारा शिकायत करने पर मामला सामने आया था जिसके बाद पीड़ितों द्वारा दनकौर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया जिसपर कारवाई करते हुए पुलिस ने आरोपित पोस्ट मास्टर को गिरफ्तार करके जेल भी भेज दिया है। ब्रहस्पतिवार को भाकियू अम्बावता के पदाधिकारियों के साथ पीड़ित अरुण कुमार ने पोस्ट आफिस पर धरना प्रदर्शन करके जमा धनराशि को पाने की मांग की। इस सम्बंध में डाक विभाग के असिस्टेंट सुपरिडेंटेंट ऑफ पोस्ट आफिस केपी सिंह ने बताया कि ग्राहकों को उनकी जमा धनराशि देने के सम्बंध में कानूनी प्रक्रिया चल रही है। उनका कहना है कि आगामी लगभग एक महीने में सभी ग्राहकों को उनकी धनराशि मिलने की उम्मीद है।
Share To:

Post A Comment: