रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार
9410563684



फर्जी जाॅब बेवसाइट बनाकर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन देहरादून ने पर्दाफाश कर पांच जालसाजों को मनसाराम नई दिल्ली से गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से 01 लैपटॉप, 07 कम्प्यूटर सिस्टम, 13 कीपैड फोन, 06 एन्ड्रॉइड फोन, 52 सिम कार्ड, एटीम कार्डस, फर्जी आधार व पेन कार्डस, 03 सोने के सिक्के, 01 सोने की चेन भी बरामद की है। साथ ही ऑनलाईन शॉपिंग कम्पनी टाटाक्लिक से सम्पर्क कर पीड़ित के 06 लाख 56 हजार रुपये वापस कराये।

मलिन चन्द दास निवासी कलकत्ता हाल निवासी आईटी पार्क देहरादून ने साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करायी थी कि अज्ञात व्यक्तियों द्वारा नौकरी का झांसा देकर उसके इन्टरनेट बैंकिंग यूजर आईडी, पासवर्ड को हैक कर उसके खाते से 10 लाख रुपये की धोखाधड़ी की गयी है। शिकायत पर तुरंत अभियोग पंजीकृत करते हुए निरीक्षक श्री पंकज पोखरियाल के नेतृत्व में पुलिस टीम को मनसाराम नई दिल्ली में एक फर्जी कॉल सेन्टर संचालित किये जाने की जानकारी प्राप्त हुयी जो कि इस तरह से जनमानस से धोखाधड़ी कर लाखों रुपये की ठगी कर रहे हैं। सूचना पर पुलिस टीम द्वारा मौके पर उक्त कॉल सेन्टर पर दबिश देकर 05 अभियुक्तों (02 महिला व 03 पुरुष) को गिरफ्तार कर उनके पास से 01 लैपटॉप, 07 कम्प्यूटर सिस्टम, 19 मोबाईल फोन, 52 सिम कार्ड, एटीम कार्डस, फर्जी आधार व पेन कार्डस, 03 सोने के सिक्के, 01 सोने की चेन बरामद की। साथ ही ऑनलाईन शॉपिंग कम्पनी टाटाक्लिक से सम्पर्क कर पीड़ित के 06 लाख 56 हजार रुपये वापस कराये।

पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि उनके द्वारा मॉनस्टर वेबसाईट से नौकरी हेतु आवेदन करने वाले लोगों का डेटा प्राप्त किया जाता था जिनसे सम्पर्क कर नौकरी का लालच देकर उनको अपनी jobrescue.com फर्जी वेबसाईट पर 10 रुपये का आवेदन इन्टरनेट बैंकिंग के द्वारा करने को कॉल की जाती थी, जो कि महिला अभियुक्ता द्वारा की जाती थी, पीड़ित द्वारा अपना यूजर आईडी व पासवर्ड सम्बन्धी जानकारी उक्त साईट पर फीड करने पर आगे Failed Transaction आता था, परन्तु इस प्रकार से अभियुक्तगण उसके खाते में इन्टरनेट बैंकिंग व पासवर्ड प्राप्त कर सेंध लगाकर खाते को खाली कर देते थे, व उक्त रकम से अपने सुखसुविधाओ, गोल्ड आदि की ऑनलाईन खरीदारी करते थे।
Share To:

Post A Comment: