रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इरफान अहमद की रिपोर्ट
9410563684


हरिद्वार औद्योगिक क्षेत्र सिडकुल के आसपास जहां एक और झोलाछाप डॉक्टर शासन प्रशासन के लिए एक चुनौती बने हुए वहीं क्षेत्र में धड़ाधड़ मेडिकल स्टोर भी खुल रहे हैं। जिन पर ऐसे अयोग्य  मेडिकल संचालक बैठे हैं जिन पर ना तो कोई डिग्री और ना ही कोई योग्यता है । आपको बता दें इस क्षेत्र अवैध  मेडिकल की बात करें तो बहुत से मेडिकल ऐसे भी है जिन पर नशीली दवाई उपलब्ध  हो जाती है। हालांकि ये दवाइयां स्टोर पर न रखा कर । मेडिकल संचालक किसी ऐसे स्थान पर रख देते हैं जहां से ग्राहकों के मांगने पर आसानी से उपलब्ध करा सके। सूत्रों की अगर मानें तो जब भी कोई ऐसा ग्राहक इन मेडिकल स्टोर पर जाकर नशीली दवाइयों की मांग करता है तो मात्र पांच मिनट में उस ग्राहक को नशीली दवाई उपलब्ध करा दी जाती है। आपको बता दें इस क्षेत्र में मात्र नौवीं दसवीं पास नाबालिक युवक भी मेडिकल स्टोर संचालक बने बैठे हैं।

जबकि  स्वास्थ्य विभाग के संबंधित अधिकारियों द्वारा समय-समय पर इन लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाती है ,बावजूद इसके ना तो झोलाछाप डॉक्टर पीछे हटने को तैयार है और ना ही मेडिकल स्टोर संचालक। जबकि हरिद्वार जिला प्रशासन के आसपास ही ये सारा खेल चल रहा है। अब आगे बात करें झोलाछाप डॉक्टरों की तो हर 10 कदम की दूरी पर ये झोलाछाप डॉक्टर अड्डा जमाए बैठे हैं ।जबकि पहले भी इन क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों के हाथों ऐसी ऐसी अप्रिय घटनाएं घट चुकी है जिनका खामियाजा बीमार ओर पीड़ित लोग भुगत चुके हैं ।

औषधि निरीक्षक हरिद्वार द्वारा किया गया मेडिकल स्टोरों का औचक निरीक्षण

हालांकि स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगातार इन लोगों के खिलाफ ऐसी मुहिम चलाई जा रही है जिनमें झोलाछाप डॉक्टर अवैध मेडिकल स्टोर पर लगातार कार्रवाई हो गई है। आपको बता दें कि औषधि निरीक्षक हरिद्वार चंद्रप्रकाश नेगी के द्वारा औषधि अनुशासन प्राधिकारी(सेल) के निर्देश अनुसार रोशनाबाद स्थित मेडिकल स्टोर पर स्वास्थ विभाग की टीम द्वारा औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के बाद क्षेत्र में जिन मेडिकल स्टोर पर अनियमतायें पाई गई। उन मेडिकल संचालकों को स्वास्थ्य अधिकारीयो द्वारा स्पष्टीकरण नोटिस थमा दिए गए।हालांकि बहुत से मेडिकल संचालक मेडिकल स्टोर बंद कर मौके से फरार हो गया। आपको बता दें सिडकुल क्षेत्र के आसपास स्वास्थ्य विभाग को लगातार शिकायत मिल रही थी की क्षेत्र में नशे का कारोबार बढ़ रहा है जिसके चलते स्वास्थ्य विभाग टीम के द्वारा अभियान चल कर छापेमारी की गई।

औषधि निरीक्षक चंद्रप्रकाश नेगी ने बताया कि निरीक्षण के दौरान जो भी मेडिकल स्टोर बंद पाए गए हैं या जो मेडिकल संचालक बंद करके फरार हो गए है । उनके विरुद्ध भी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।  इस क्षेत्र में ऐसे लोगों के खिलाफ लगातार मुहिम जारी रहेगी जो नशे का कारोबार कर रहे हैं,या स्वास्थ्य विभाग को चुनौती दे रहे हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ लगाता मुहिम जारी रहेगी । मेडिकल स्टोर पर छापेमारी के दौरान औषधि निरीक्षक हरिद्वार चंद्रप्रकाश नेगी, श्री सुरेंद्र सिंह भंडारी ओर भुवन चंद्र पंत मौजूद रहें।
Share To:

Post A Comment: