कलियर साहब पहले मेडिकल नशे ने रूलाया अब स्मैक के सोदागरो ने हमारे नाबालिग बच्चों को घर से निकल ना मुहाल कर दिया ।
रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इरफान अहमद की रिपोर्ट 9410563684

कलियर । ये दर्द उन माता पिता का है  जिनके 10 से 12 साल के बच्चों को स्मैक के सोदागरो ने स्मैक की तल डालकर उनकी जिंदगी से खिलवाड़ किया है एक दर्जन से अधिक कलियर शरीफ मे मोत के सोदागर है जिनके खिलाफ कलियर पुलिस का अभीयान जारी भी है ।उसके बाद भी मोत के सोदागर स्मैक बेचने से बाज नही आ रहे है ठोस शूत्र बताते हे कि मेडिकल नशे पर किसी हद तक कुछ अंकूश लगा तो स्मैक जेसे खतरनाक नशै ने कलियर मे अपनी पुरी जडे जमा ली है । आखिर इस मोत के सामान बेचने वालो के खिलाप सभासद व अध्यक्ष को अभियान चलवाना चाहिए और ठोस कारवाई करवानी चाहिए।क्या इन जिम्मेदार लोग कोई क्षेत्र के लिए जिम्मेदारी नही ।जनता ने उन्हे इस लिए चुना इसलिए उन भरोसा किया की वो क्षेत्र मे  हमारे बच्चों को अच्छी   शिक्षा व सवास्थय दिलवाए वो तो हुआ नही बलकि स्मैक जेसे गंभीर नशे ने हमारे बच्चों की जिंदगी तबाह कर दी कलियर मे उचे स्तर पर स्मैक का कारोबार चल रहा है जिससे नाबालिग बच्चों का भविष्य अंधर मे जा रहा है ।आखिर कब रूकेगा कलियर मे मोत का काला कारोबार कबतक मोत के सोदागर कलियर मे मोत का सामान बेचते रहेगे कब तक यूवा बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करते रहेगे ।कलियर मे मोत का कारोबार करने वाले अधिकतर लोग बाहरी है लेकिन चंद सिक्को की खातीर उसे स्थानीय लोगा का संरक्षण जरूर है ।कलियर मे अधिकतर 10 से  14 साल तक के बच्चों को निशाना बनाया जाता है। शूत्र बताते हे कि मोत के सोदागर पहले नाबालिग बच्चों को स्मैक फिरी पिलाते है जब उसको लत पड जाती है तो उससे मोटी रकम वसूली जाती है उसको एसी लत पड जाती है मोत का सामान खरीदने के लिए वह किसी भी हद तक जा सकता हे चोरी जेसी घटनाओ को भी अंजाम देता है नगर पंचायत बोर्ड को चाहिए की कलियर पुलिस की मदद कर एसे सोदागरो पर ठोस कारवाई कराए ।ना की मोत के सोदागरो की पेरवी करे कलियर मे पहले मेडिकल नशे ने अपने पुरे पैर पसारे थे ।तो अब स्मैक जेसे गंभीर नशे का सिकार नाबालिग बच्चे हो रहै है। बच्चों को क्या मालूम होता हे की यह मोत का सोदागर हमे क्या पिला रहा है बच्चों को क्या मालूम ये मोत का सोदागर हमे कहा किस दलदल मे धकेल रहा हे बच्चे तो बच्चे है उन्हे नही मालूम होता है ।और जब उन्हे मालूम पडता हे तो सब कुछ लूट जाता है ।कलियर मे मोत का सामान बेचने मे महीलाए भी पिछे नही है महीलाए भी स्मैक को खूलकर बेच रही है इसलिए कलियर मे मोत का सामान धडल्ले से बिक रहा हे कलियर वासियों ने अगर समय रहते मोत के सोदागरो के खिलाप आवाज नही उठाई तो पुरी नगर पंचायत मे ये जहर वायरस की तरह फेल जाएगा 
 शूत्र बताते हे कि यू पी के बरेली से लाकर स्मैक बेचा जाता है वहा से कम दामो मे लाकर यहां पर चार गूना से भी अधिक मे बेचा जाता है मोटी कमाई के लिए बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ किया जाता है
Share To:

Post A Comment: