रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इरफान अहमद की रिपोर्ट
9410563684


पिरान कलियर।नागरिकता संशोधन बिल संसद के दोनों सदनों से पास होने के बाद मुस्लिम संगठनों व स्थनीय लोगों ने हाथों में लिखी तख्ती लेकर बिल का विरोध कर इस बिल को वापस लेने की मांग की। इसे लेकर देश के अलग अलग हिस्सों में मुस्लिम संगठन सवाल खड़े कर रहे हैं।

शुक्रवार को दारूलउलूम कादरिया साबरिया बरकतें रजा से मार्च निकलकर पीपल चौक से दरगाह के बाजारों में की ओर से होते हुए हज हॉउस के सामने इकट्ठा होकर अपने विचार रखते हुए बिल की मुखालफत की। उन्होंन कहा की यह बिल संविधान विरोधी हैं हम इस नागरिकता विधेयक बिल का विरोध करते हैं। उपस्थित लोगों बिल के विरोध में हाथ में तख्तियां लेकर प्रदर्शन किया। इस दौरान डॉ नय्यर काज़मी ने कहा कि यह काला बिल है। उन्होंने कहा कि हम इस बिल का पुरजोर विरोध करते हैं। नागरिकता संशोधन विधेयक नागरिकों के मौलिक अधिकारों को भी हनन करता है।सारिक अफरोज ने कहा कि यह बिल खतरनाक है क्योंकि यह देश में सदियों से चली आ रही धार्मिक और सांस्कृतिक एकता के लिए एक गंभीर खतरा हैं। मदरसा प्रबन्धक मौलाना गुलाम नबी नूरी ने कहा इस नागरिकता विधेयक ने पूरे हिंदुस्तान के लोगों की नींद हराम कर दी है।और देश के लोगों के सामने एक बड़ी उलझन खड़ी कर दी है।हम देश को धर्म के नाम पर बांटने वाले इस नागरिकता विधेयक का कड़ा विरोध करते हैं। इस दौरान शाह यावर अली ऐजाज़ साबरी ,लियाकत साबरी,मौलाना इस्माइल,मौलाना उमर लतीफी,सत्यपाल सिंह,ख़ालिद साबरी,हाफिज अदील  क़ुरैशी,सभासद नाज़िम त्यागी,गुलशाद सिद्दीक़ी,,परवेज़ मालिक,गुलफाम साबरी,दिलशाद,इस्तकार अहमद सहित मदरसे के छात्र  आदि लोग मौजूद रहे।
Share To:

Post A Comment: