रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इरफान अहमद की रिपोर्ट
 9410563684

रुड़की  नवनिर्वाचित मेयर गौरव गोयल की जीरो टॉलरेंस की व्यवस्था से नगर निगम प्रशासन सन्न है। कमीशनखोरो और ठेकेदारों में भी हड़कंप की स्थिति है। उन्होंने ठेकेदारों के भी कदम ठिठक गए हैं जो कि नगर निगम में ठेकेदारी कर मालामाल होने की सोच रहे थे। मेयर के इस रुख से ठेकेदारों के एक मुखिया के चेहरे की हवाइयां उड़ी हुई है। जानकारी मिल रही है कि ठेकेदारों का यही मुखिया अपना कमीशन तय कर नए ठेकेदारों को नगर निगम में लाया। लेकिन नवनिर्वाचित मेयर ने साफ कर दिया है कि नगर निगम में भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था दी जाएगी। टेंडर प्रक्रिया में पारदर्शिता बरती जाएगी और पूर्व में जो भी गड़बड़ियां हुई है उसकी जांच होगी। मेयर के द्वारा यहां तक कह दिया गया है कि कमीशनखोर नगर निगम कार्यालय से थोड़ा दूर ही रहे तो अच्छा रहेगा। उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि चाहे कोई प्रमाण पत्र हो या एनओसी। जारी होने में जरा भी देरी नहीं होगी। नगर निगम कि जिन दुकानों व मकानों का स्वरूप बदला गया है ऐसे मामलों में भी कार्रवाई होगी। दुकान मकान के शोरूम बदलने संबंधी शिकायतों पर आज तक कार्रवाई क्यों नहीं हुई। इस पर भी संबंधित अधिकारी-कर्मचारी का जवाब तलब किया जाएगा। नवनिर्वाचित मेयर गौरव गोयल ने आज यह भी कहा है कि किसी भी मामले में जारी नोटिस को भुनाने वाले अधिकारी कर्मचारी नपेंगे। नगर निगम की संपत्ति का भौतिक सत्यापन होगा और जहां पर भी नगर निगम की संपत्ति पर अवैध निर्माण कब्जे पाए जाएंगे तो उसमें कार्रवाई कराई जाएगी। यदि नगर निगम की किसी भी संपत्ति पर अवैध कब्जे व निर्माण में किसी अधिकारी कर्मचारी की संलिप्ता पाई जाएगी तो उस पर भी कार्रवाई होगी। नगर निगम की यदि कोई संपत्ति पूर्व में कमजोर पैरवी के कारण किसी के द्वारा हथिया ली गई है तो उसे वापस लाने के लिए कानूनी कार्रवाई शुरू कराई जाएगी । नगर निगम संपत्ति संबंधी जितने मामले भी कोर्ट में विचाराधीन हैं उन सब की मौजूदा स्थिति पर रिपोर्ट लेने के बाद कानूनी पहलू मजबूत किया जाएगा। कोशिश रहेगी कि कोई भी संपत्ति कमजोर पैरवी के चलते नगर निगम के हाथों से ना निकले। उन्होंने कहा है कि जीरो टॉलरेंस का असर सप्ताह भर बाद दिखाई देने लगेगा। जिस अधिकारी कर्मचारी को जीरो टॉलरेंस व्यवस्था रास नहीं आएगी। वह अपनी इच्छा से रुड़की नगर निगम से किसी अन्य निगम के लिए तबादला करा ले। मेयर गौरव गोयल ने कहा कि पूर्व में कई बार ऐसे मामले सामने आए हैं कि दुकान व मकान के नामांतरण में मोटी रकम ली जाती रही है। लेकिन अब ऐसा नहीं होने दिया जाएगा । निर्धारित सीमा के भीतर नामांतरण की प्रक्रिया पूरी होगी और संबंधित पक्षों को उसकी समय रहते सूचना दी जाएगी। उन्होंने स्पष्ट किया है कि लीज पर दी गई संपत्ति का दुरुपयोग नहीं होने दिया जाएगा। यदि कोई व्यक्ति नगर निगम से लीज पर ली गई संपत्ति का किराया वसूल रहा है तो लीज समाप्त कर उससे व्यवसायिक दरों पर किराया वसूला जाएगा। उन्होंने कहा है कि जनता पर टैक्स की मार नहीं पड़ने दी जाएगी। लेकिन जिन्होंने किराए को ही कारोबार बना लिया है। उनसे व्यवसायिक दरों में टैक्स वसूला जाएगा। मेयर ने कहा है कि सफाई व्यवस्था पर पूरा ध्यान दिया जाएगा बेवजह किसी भी कर्मचारी को परेशान नहीं किया जाएगा और यदि कोई ड्यूटी के प्रति लापरवाही बरत रहा है तो उसके प्रति नरमी भी नहीं बरती जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों कर्मचारियों को निर्देशित कर दिया गया है कि वह ड्यूटी को जिम्मेदारी के साथ निभाए। समय से अपनी ड्यूटी आए और छुट्टी होने तक पूरी क्षमता के साथ काम करें। उन्होंने साफ किया है कि उनकी शालीनता को कोई भी उनकी कमजोरी न समझे। वह शुरू में सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को अच्छे से काम करने का अवसर देंगे। भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था के लिए सभी अधिकारियों कर्मचारियों का सहयोग लेंगे। इस ओर जनता का भी वह समय-समय पर साथ लेंगे। उन्होंने कहा कि यातायात व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए पुलिस प्रशासन के साथ नगर निगम प्रशासन का तालमेल बैठाया जाएगा। जहां-जहां पर भी अतिक्रमण के कारण यातायात व्यवस्था चरमरा रही है। वहां के अतिक्रमण को समय रहते हटाया जाएगा। यदि कहीं पर सड़क का किराया वसूला जा रहा है तो ऐसे मामलों में सख्त कार्रवाई होगी। वेंडर जोन की प्रक्रिया जल्द शुरू कराई जाएगी। शहर के विकास में तेजी लाने के लिए शहर विधायक का पूरा सहयोग लिया जाएगा। आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में संबंधित विधायकों के साथ बैठक की जाएगी। बोर्ड की पहली बैठक में नगर निगम और जनता के हितकारी प्रस्ताव आएंगे। इसके लिए होमवर्क किया जा रहा है। सभी पार्षदों और शहर
Share To:

Post A Comment: