रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इरफान अहमद की रिपोर्ट
 9410563684



नई दिल्ली
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ देशभर में उबाल है। इस कानून के कारण असुरक्षित महसूस कर रहे देश के मुसलमानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली के रामलीला मैदान से सीधा संदेश दिया। उन्होंने कहा कि विपक्ष पर झूठ फैलाने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि आज जो लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं, उन्हें ये याद रखना चाहिए कि हमने गरीबों की भलाई के लिए, योजनाओं के लाभार्थी चुनते समय कभी कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं।
पीएम ने कहा कि कुछ लोग CAA को गरीबों के खिलाफ ही बता रहे हैं, कह रहे हैं कि जो लोग आएंगे वो यहां के गरीबों का हक छीन लेंगे। उन्होंने कहा कि झूठ फैलाने से पहले कम से कम गरीबों पर तो दया करो भाई। उन्होंने कहा कि झूठ बेचने वाले, अफवाह फैलाने वाले इन लोगों को पहचानने की जरूरत है। ये 2 तरह के लोग हैं। एक वे लोग हैं, जिनकी राजनीति दशकों तक वोटबैंक पर ही टिकी रही है। दूसरे वे लोग हैं, जिनको इस राजनीति का लाभ मिला है।
पीएम ने कांग्रेस समेत समूचे विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि ये लोग किस तरह अपने स्वार्थ के लिए, अपनी राजनीति के लिए किस हद तक जा रहे हैं, ये आपने पिछले हफ्ते भी देखा है। जो बयान दिए गए, झूठे विडियो, उकसाने वाली बातें कही गईं, उच्च स्तर पर बैठे लोगों ने सोशल मीडिया में डालकर भ्रम और आग फैलाने का गुनाह किया है।
आग लगाने वालों पर बरसे मोदी
उन्होंने कहा कि स्कूल बसों पर हमले हुए, ट्रेनों पर हमले हुए, मोटर साइकिलों, गाड़ियों, साइकिलों, छोटी-छोटी दुकानों को जलाया गया है। भारत के ईमानदार टैक्सपेयर के पैसे से बनी सरकारी संपत्ति को खाक कर दिया गया है। इसके बाद इनके इरादे कैसे हैं, ये देश अब जान चुका है। मोदी ने कहा कि मैं इन लोगों को कहना चाहता हूं कि मोदी को देश की जनता ने बैठाया, ये अगर आपको पसंद नहीं है, तो आप मोदी को गाली दो, विरोध करो, मोदी का पुतला जलाओ लेकिन देश की संपत्ति मत जलाओ, गरीब का रिक्शा मत जलाओ, गरीब की झोपड़ी मत जलाओ।
'योजनाओं का फायदा देने में किसी का धर्म पूछा?'
मोदी ने पूछा कि दिल्ली में सैकड़ों अवैध कॉलोनियों को वैध करके 40 लाख लोगों को अधिकार दिया तो क्या इसमें किसी से जाति, धर्म पूछा गया? उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की योजनाओं का फायदा देने में किसी का धर्म पूछा गया, किसी की जाति पूछी गई? मोदी ने कहा, 'एक ही सत्र में दो बिल पारित हुए हैं। एक बिल में दिल्ली के 40 लाख लोगों को अधिकार दे रहा हूं और ये झूठ फैला रहे हैं कि मैं अधिकार छीनने वाला कानून बना रहा हूं। यह झूठ चलने वाला नहीं है, देश स्वीकार करने वाला नहीं है। मैं झूठ फैलाने वालों को चुनौती देता हूं, मेरे काम की पड़ताल कीजिए। कहीं पर दूर-दूर तक भेदभाव की बू आती है तो देश के सामने लाकर रख दीजिए।
Share To:

Post A Comment: