दिल्ली ( कलछीना टाईम्स हसन खान ) । भाजपा के विस्तृत क्षितिज पर जेपी नड्डा के रूप में एक नए जगमगाते नक्षत्र का उदय हुआ है । जगत प्रकाश नड्डा विश्व की सबसे बड़ी और केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा के 11वें अध्यक्ष के रूप में चुन लिए गए । इसी के साथ भाजपा को पूर्णकालिक अध्यक्ष मिल गया है । अभी तक केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ही पार्टी अध्यक्ष थे । इस अवसर पर पुरे देश में बधाईओं और जलसों का दौर शुरू हो गया है ।
उत्तर प्रदेश कृषि अनुसन्धान परिषद के अध्यक्ष कैप्टन विकास गुप्ता, उत्तर प्रदेश कृषि अनुसन्धान परिषद के मीडिया सलाहकार पुनीत गोस्वामी, बी. डी. शुक्ला (पी.एस. सांसद असम) ब्यूरो ऑफ जर्नालिस्ट फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष यू. के. त्रिपाठी सहित अनेक लोगों ने बधाईयां दी हैं । सभी ने जगत प्रकाश नड्डा को एक सफल कार्यकाल की शुभकामना देते हुए कहा कि वे छात्र जीवन से ही पार्टी के समर्पित सिपाही,प्रखर व्यक्तित्व, ओजस्वी वक्ता एवं परवक्ता, कुशल व्यवहार एवं प्रबंधन क्षमता के कारण वे पार्टी के साथ-साथ आमलोगों में भी लोकप्रिय हैं । विदित हो की अटल बिहारी वाजपेयी,लालकृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी से लेकर अमित शाह जैसे दिग्गज इस पद पर विराजमान रह चुके हैं । ऐसे में जेपी नड्डा के सामने यह चुनौती होगी कि वो पार्टी को और आगे बढ़ा सकें । गृहमंत्री व पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की अगुवाई में जिस तरह पार्टी ने लगातार जीत दर्ज की और लगातार पार्टी का जनाधार बढ़ता जा रहा है, ऐसे में जेपी नड्डा के सामने चुनौती होगी कि वो इस जीत के सिलसिले को जारी रखें ।
जगत प्रकाश नड्डा का ताल्लुक भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य से है । अपनी काबिलियत के दम पर भारत के इतने छोटे से राज्य से नाता रखने वाले जगत प्रकाश नड्डा ने आज बीजेपी पार्टी में अपना एक ऊंचा कद बनाया है । जगत प्रकाश नड्डा को भारतीय जनता पार्टी की ओर से 2014 में देश का स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय संभालने को मिला था । इस बार 2019 में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह को गृह राज्य मंत्री बनाने के बाद यह लगभग तय था कि जे पी नड्डा को भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष बनाया जा सकता है ।
ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखने वाले जगत प्रकाश नड्डा का जन्म 2 दिसंबर सन् 1960 में बिहार की राजधानी पटना में हुआ था । जगत प्रकाश नड्डा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा और बी.ए. की डिग्री पटना के कॉलेज से हासिल की है और उन्होंने एल.एल.बी. की डिग्री हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से प्राप्त की है ।
जगत प्रकाश नड्डा के राजनीति सफर की शुरूआत साल 1975 में जेपी आंदोलन से हुई थी । देश के सबसे बड़े आंदोलनों में गिने जानेवाले इस आंदोलन में जगत प्रकाश नड्डा ने भी भाग लिया था । इस आंदोलन में भाग लेने के बाद जगत प्रकाश नड्डा बिहार बीजेपी की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) में शामिल हो गए थे । जिसके बाद उन्होंने 1977 में अपने कॉलेज में छात्र संघ का चुनाव लड़ा था और इस चुनाव को जीतकर वो पटना विश्वविद्यालय के सचिव बन गए । बाद में नड्डा ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में एल.एल.बी. की पढ़ाई शुरू कर दी ।इस दौरान उन्होंने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में भी छात्र संघ का चुनाव लड़ा और उसमें जीत हासिल की । बीजेपी द्वारा नड्डा को साल 1991 में अखिल भारतीय जनता युवा मोर्चा का राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया था ।
साल 1993 में जेपी नड्डा ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा की बिलासपुर सीट से चुनाव लड़ा और इस सीट पर अपनी जीत दर्ज की जिसके बाद उन्हें प्रदेश की विधानसभा में विपक्ष का नेता चुना गया था । इसी तरह उन्होंने साल 1998 और साल 2007 में इस सीट से फिर चुनाव लड़ा और जीत हासिल की, वहीं उनको इस दौरान प्रदेश की कैबिनेट में भी जगह दी गई। उन्हें साल 1998 में हिमाचल प्रदेश का स्वास्थ्य मंत्रालय दिया गया और साल 2007 में वो वन पर्यावरण और संसदीय मामलों के मंत्री रहे, पार्टी ने साल 2012 में जगत प्रकाश नड्डा को  हिमाचल प्रदेश की ओर से राज्यसभा में भेजा था और इस समय वो राज्यसभा के सांसद के रूप में कार्य कर रहे हैं ।
Share To:

Post A Comment: