डॉ सौरभ के अप्रतिम  कृतित्व पर लगी विदेशी विश्वविद्यालय की  मुहर ।
ग्लोबल कॉनकॉर्ड यूनिवर्सिटी मालदीव  डॉ सौरभ को देगी डी .लिट् की मानद उपाधि ।
साम्प्रदायिक सौहार्द एवम मानवता के अप्रतिम योगदान के लिए मिल रहा है डी .लिट् की उपाधि ।
गोरखपुर । ग्लोबल कॉनकॉर्ड वर्चुअल यूनिवर्सिटी  मालदीव के प्रमुख द्वारा  विश्वस्तरीय धराधाम परिवार के मुखिया व मनीषी  डॉ सौरभ पांडेय को दिनाँक 24 जनवरी  को मरीन ड्राइव मुंबई  में " आयोजित दीक्षांत समारोह में  डी. लिट् . " की उपाधि से सम्मानित किया जाएगा । डॉ सौरभ को यह मानद उपाधि उनके द्वारा  दो दशक से विश्व बंधुत्व , साम्प्रदायिक सद्भाव , मानवता व साक्षरता की दिशा किये गए अप्रतिम योगदान के लिए दिया जाएगा। बिदित हो को किसी शख्स को उसके उत्कृष्ट काम या समाज में  अप्रतिम योगदान देने के लिए   डी., लिट् ऑनरेरी डिग्री (मानद उपाधि) दी जाती है। यह एक तरह से अकादमिक सम्मान है।मानद उपाधि देने की शुरुआत पंद्रहवीं शताब्दी में ऑक्सफोर्ड यूनवर्सिटी से हुई थी।
बताते चले कि डॉ सौरभ पाण्डेय गोरखपुर जनपद स्थित भस्मा ग्राम निवासी है।उनके द्वारा निरन्तर मानवीय एकता ,साम्प्रदायिक सौहार्द ,साक्षरता ,पर्यावरण संरक्षण के दिशा में निरन्तर पूर्ण मनोबेग से कार्य किया जा रहा है।उनके नेतृत्व में जनसहयोग से बनने वाला धराधाम विश्व के लिए अनूठा होगा।जहां से मानवता एवम साम्प्रदायिक सद्भावना की अलख जागेगी।साथ ही साथ लोगो मे भाईचारा की भावना में बृद्धि होगी।एक परिसर में मंदिर ,मस्जिद,गिरिजाघर,गुरुद्वारा,बौध मंदिर ,अगियारी आदि धर्मस्थलों के निर्माण हो जाने से धार्मिक संस्कृतियों का मिलन धराधाम में होगा।यह अपने आप मे अनोखा एवं अप्रतिम होगा।धराधाम लगभग 5 वर्षो में बन कर तैयार होगा।डॉ सौरभ निरन्तर सभी धर्मों के धर्म स्थलों पर जाकर साम्प्रदयिक सौहार्द ,धार्मिक एकता,मानवता की अलख जगाते है एवम लोगो को जागरूक करते है।अब उनके द्वारा बताए गए रास्ते का लोग अनुसरण भी करना प्रारंभ कर दिये है।डॉ सौरभ द्वारा बनाये गए धराधाम पेज पर लगभग 45 देश को जुड़े हुए है।और पेज के माध्यम से शांति,सद्भावना एवम भाई चारा का संदेश प्राप्त कर रहे है।
Share To:

Post A Comment: