बुजुर्ग महिला की हत्या से मचा हड़कंप


 दनकौर कस्बे के गाड़ी मोहल्ले में एक बुजुर्ग की हत्या के चलते सनसनी फैल गई पीड़ित परिजनों का आरोप है कि चोरी करने के नियत से घुसे आरोपियों द्वारा बुजुर्ग महिला की हत्या कर दी गई वही घर में रखें करीब छह लाख रुपये की नकदी और जायदाद के कागजात भी चोरी कर लिए गए ।घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस  मामले की जांच में जुट गई। पीड़ित की तहरीर पर 5 लोगों के खिलाफ दनकौर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही मामले का पर्दाफाश कर दिया जाएगा।

 दनकौर कस्बा के गढ़ी मोहल्ला निवासी पीड़ित जितेंद्र नागर ने कोतवाली में तहरीर देकर बताया कि उनकी 75 वर्षीय दादी जयपाली घर के पास बने अहाते में अकेली सोई हुई थी। मंगलवार की सुबह करीब पांच बजे पीड़ित पशुओं को चारा डालने के लिए अहाते में पहुँचा और अपनी दादी को नींद से जगाने का प्रयास किया मगर नींद से नही जागी। कुछ देर बाद ही पीड़ित को विश्वास हो गया कि बुजीर्ग महिला की मृत्यु हो चुकी है। घटना के बाद अन्य परिजन भी मौके पर पहुँचे और चीखपुकार शुरू हो गई। मगर परिजनों को बुजुर्ग महिला के शरीर पर पहने हुए जेवरात नही मिले तो हत्या की आशंका हुई। परिजनों ने बताया कि महिला के शरीर पर चोट के निशान पाए गए हैं। हत्या की आशंका के बाद परिजनों में खलबली मच गई और अहाते की तरफ दौड़े। बताया जाता है कि अहाते में बने दूसरे कमरे में रखी एक सन्दूक में करीब छह लाख रुपये की नकदी और जायदाद के कागजात रखे थे। परिजनों को आशंका है कि पड़ोस के ही पांच लोगों द्वारा चोरी की गई और विरोध करने पर बुजुर्ग महिला की हत्या कर दी गई। करीब सात बजे पीड़ित परिजनों द्वारा डायल 112 को मामले की जानकारी दी गई। सूचना के बाद भारी पुलिसबल मौके पर पहूँच गया। हालांकि कि शुरुआत में पुलिस को भी किसी बावरिया गिरोह द्वारा डकैती की आशंका हुई मगर बुजुर्ग महिला की हत्या खूंखार तरीके से नही होने के चलते बावरिया गिरोह द्वारा इस वारदात को अंजाम नही देने की बात लगभग स्पष्ट हो गई। वहीं डीएसपी राजेश कुमार व एडीएसपी रणविजय सिंह समेत अन्य आला अधिकारी भी मौके पर पहूँच गए। इनके अलावा फील्ड यूनिट टीम डॉग स्क्वायड टीम भी जांच में जुट गईं।घटना की जानकारी होने के बाद जेवर के विधायक धीरेंद्र सिंह भी मौके पर पहुँचे और पीड़ित परिजनों को सांत्वना दी। विधायक ने पुलिस अधिकारियों से मामले का जल्द खुलासा करने की बात कही। इस दौरान विभिन्न संदिग्ध स्थानों से फिंगर प्रिंट भी लिए गए। पीड़ित जितेंद्र नागर की तहरीर के आधार पर पड़ोस के ही राकेश, उमेश नागर, जितेंद्र नागर, कैलाश व मोहित के खिलाफ चोरी व रंजिशन हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया।
Share To:

Post A Comment: