रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार
 9410563684

                             
आई आई टी रुड़की (2 फ़रवरी, 2020). आई आई टी रुड़की के अनवरत शिक्षा केन्द्र (कन्टिन्यूइंग एजुकेशन सेन्टर-CEC) में उन्नत भारत अभियान क्षेत्रीय समन्वय संस्थान- आई आई टी रुड़की, राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान, गुवाहाटी तथा उत्तराखण्ड ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान, रुद्रपुर द्वारा संयुक्त रूप से मैनेजमेंट डेवलपमेंट प्रोग्राम ऑन रूरल डेवलपमेंट लीडरशिप पर एक कार्यशाला का उद्घाटन आई आई टी रुड़की के निदेशक प्रो० अजीत कुमार चतुर्वेदी ने किया. प्रो० चतुर्वेदी ने उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए उन्नत भारत अभियान के अंतर्गत राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान, तकनीकी शिक्षण संस्थान एवं ग्रामवासियों के समन्वित प्रयास से ग्रामीण विकास में शुरू हुई पहल में आई आई टी रुड़की द्वारा अपनी भूमिका का बेहतर ढंग से निर्वहन करने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि छोटे-छोटे प्रयास ग्रामीण विकास में बहुत बड़ा योगदान दे सकते हैं. उन्होंने आई आई टी रुड़की द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना किया और कहा कि संस्थान ग्रामीण विकास में योगदान देने के लिए प्रत्येक दशा में प्रतिबद्ध है.
इससे पहले उन्नत भारत अभियान क्षेत्रीय समन्वय संस्थान-आई आई टी रुड़की के समन्वयक प्रो० आशीष पाण्डेय ने अतिथियों व प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए अपने स्वागत भाषण में बताया कि 3 से 6 फ़रवरी, 2020 तक चलने वाली इस कार्यशाला में पश्चिमी उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड राज्य के उन्नत भारत अभियान कार्यक्रम से जुड़े हुए प्रतिभागी संस्थानों के समन्वयकों, छात्रों, सरपंचों, ग्राम प्रधानों तथा मीडिया प्रतिनिधियों के अतिरिक्त इस अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सरकारी विभाग के सम्बंधित कर्मचारी/अधिकारी भाग ले रहे हैं.
राष्ट्रीय ग्रामीण विकास संस्थान एवं पंचायती राज संस्थान गुवाहाटी के निदेशक प्रो० आर एम पन्त ने अपने सम्बोधन में कहा कि उन्नत भारत अभियान कार्यक्रम में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान द्वारा अधिकारियों के सहयोग से ग्रामीण विकास का खाका तैयार करके उच्च तकनीकी शिक्षण संस्थानों द्वारा तकनीक के इस्तेमाल से प्रतिभागी ग्राम प्रधानों व सरपंचों के समन्वय से ग्रामीण विकास को धरातल पर क्रियान्वित करने का कार्य किया जा रहा है. इसके अंतर्गत सम्बंधित गांव के ग्रामीण उस गाँव से सम्बंधित विकास की कार्ययोजना तैयार करेंगे. इसी दिशा में कार्य करने के लिए प्रमुख लोगों को इस कार्यशाला के माध्यम से प्रशिक्षित किया जायेगा. उद्घाटन कार्यक्रम को राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान से प्रो० मुकेश कुमार श्रीवास्तव ने भी सम्बोधित किया. उन्होंने कहा कि कार्यशाला का उद्देश्य ग्रामीण विकास में योगदान के लिए इस अभियान से जुड़े हुए लोगों में नेतृत्व क्षमता विकसित करना तथा अभियान में सहायता प्रदान करने वाली सरकार की अन्य एजेंसियों व विभागों से बेहतर तालमेल की कड़ी को और अधिक सुदृढ़ करना है. इससे उन्नत भारत अभियान के उद्देश्यों को पूरा करने में काफी हद तक सफलता मिल सकेगी. धन्यवाद ज्ञापन क्षेत्रीय समन्वय संस्थान, उन्नत भारत अभियान, आई आई टी रुड़की के समन्वयक प्रो० आशीष पाण्डेय ने प्रस्तुत किया. कार्यशाला में राष्ट्रीय जल विज्ञान संस्थान के पूर्व निदेशक प्रो० आर डी सिंह, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण/जिला मिशन प्रबन्धक कि सहायक परियोजना निदेशक श्रीमती नलिनीत घिल्डियाल, जिला थीमेटिक विशेषज्ञ भानु प्रताप, ब्लॉक मिशन प्रबन्धक लक्सर विकास विक्रम, खानपुर गुंजन लाल, नारसन मो० हारून, बहादराबाद हरीश लखेड़ा सहित ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे. इसके अतिरिक्त दीनदयाल अंत्योदय योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत स्वयं सहायता समूहों, ग्राम संगठनों व क्लस्टर स्तरीय संगठनों के प्रतिनिधियों ने प्रतिभाग किया. कार्यशाला में अन्य लोगों के अलावा सहारनपुर से दैनिक जागरण मीडिया प्रतिनिधि अखिलेश कौशिक, आई आई टी रुड़की उन्नत भारत अभियान से जुड़े छात्र-छात्राएं, नितिन वर्मा, नितिन शर्मा आदि लोग मौजूद रहे.
Share To:

Post A Comment: