रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इमरान देशभक्त की रिपोर्ट
9410563684


               मुफ्ती अफसान साहब व मौलाना अखलाक अहमद ने कुरान और हदीस की रोशनी के अनुसार अपनी जिंदगी गुजारने का आह्वान करते हुए कहा कि हमें अपने जीवन को सादगी एवं सुन्नत तरीके से गुजारने चाहिए। इसी में दीन और दुनिया की कामयाबी है।उन्होंने हुजूर की पैदाइश से लेकर उनकी पूरी जिंदगी का जिक्र किया।उन्होंने कहा कि हुजूर नबी ए पाक सल्लल्लाहु अलेही वालेही वसल्लम ने जिंदगी को सादगी से गुजारने,बुराइयों से बचने तथा इंसानियत का जज्बा कायम रखने की सलाह दी,तथा आपस में मिलजुल कर रहने व एक दूसरे के दुख-सुख में मदद करने के साथ ही दुनियावी तालीम और दीनी शिक्षा हासिल करने पर जोर दिया।उन्होंने कहा कि कुरान और इस्लाम के रास्ते पर चलकर ही कामयाबी हासिल की जा सकती है।कहा कि एक समय था जब लोग मुसलमानों की अच्छाइयों से प्रेरित होकर उन पर विश्वास किया करते थे।मुसलमान को सम्मान की निगाह से देखा जाता था लेकिन अब संप्रदायिक दलों ने देश में जहर घोलने का काम किया है।उन्होंने मुसलमानों को देश से बुराइयों व आतंकवाद को खत्म करने के लिए मिलजुल कर काम करने का आह्वान किया। सालाना जलसे के समापन अवसर पर देश व प्रदेश में आमनो-सलामती और कौम की तरक्की की दुआ की गई।इस अवसर पर विधायक हाजी फुरकान अहमद,मौलाना हुसैन अहमद,मुफ्ती मोहम्मद राशिद,मौलाना नसीम अहमद कासमी, मौलाना अजीमुद्दीन शाह, मौलाना मोहम्मद आलिम, मौलाना मोहम्मद शराफत,कारी दिलशाद अहमद,कारी मोहम्मद नौशाद,मौलाना मोहम्मद उस्मान,मौलाना शमशाद अली,मौलाना मुसर्रत अली, मौलाना मोहम्मद इकराम, मोहम्मद अखलाक,डॉक्टर खुर्शीद,डॉक्टर मोहसीन, हाजी मुमताज,जुल्फिकार अली,मास्टर उस्मान, सुलेमान कुरैशी,मोहम्मद यूसुफ,मोहम्मद यूनुस, मोहम्मद जुल्फान,असगर अली,कारी रिजवान,मौलाना हारून,मौलवी सरफराज,कारी शमीम अहमद,कारी नईम अहमद,कारी मोहम्मद सादिक आदि बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।जलसे का आगाज कलाम-ए-पाक की तिलावत से हुआ।
Share To:

Post A Comment: