रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार
 9410563684 


             पुलिस प्रशासन की नाक के नीचे अवैध शराब और नशे का कारोबार फल-फूल रहा है ।
ऋषिकेश में नशे का व्यापार इतना ज्यादा बढ़ गया है कि उसकी आग में छोटे-छोटे बच्चों का भविष्य जल रहा है ।
जहां सुबह सुबह स्कूल जाने वाले बच्चे कंधे पर स्कूल बैग लिए चरस की पुड़िया खरीदते दिख रहे हैं ,वहीं झुग्गी झोपड़ियों के बच्चे पुड़ियां बेचते दिख जाते है। छोटे-छोटे बच्चों को नशे की गिरफ्त में देख स्थानीय लोगों ने लगातार प्रशासन और पुलिस को आगाह किया परंतु पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की ।
वहीं दूसरी ओर गुमानीवाला प्लांटेशन नर्सरी के जंगल में ग्रामीण महिलाओं ने एक बार फिर झाड़ियों में लहन के छह डिब्बे गहरे  खड्डे से बरामद किए, जिससे लगभग 300 लीटर से अधिक कच्ची शराब बनाई जा सकती है ।
उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच की मीडिया प्रभारी और समाजसेवी मनीषा वर्मा ने पुलिस व प्रशासन से मांग की है कि शीर्घ ही तीर्थ नगरी को नशे से मुक्त करवाएं अन्यथा राज्य आंदोलनकारी धरना व प्रदर्शन के लिए बाध्य होंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन की होगी।
Share To:

Post A Comment: