रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इरफान अहमद की रिपोर्ट
9410563684


 कोचिंग संचालक को उसने बताया कि सिंगापुर के एक अस्पताल में नौकरी है, जिसकी एक लाख से अधिक सैलरी है।

रुड़की। सिंगापुर के एक अस्पताल में नौकरी दिलाने के नाम पर कोचिंग संचालक से 5.34 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। फिलहाल, पुलिस ने आरोपित और उसके परिवार के तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
बुग्गावाला थाना क्षेत्र के सतीवाला मजाहिदपुर गांव निवासी जगमोहन सिंह रुड़की के शेखपुरी में रहते हैं। वह शहर में कोचिंग सेंटर चलाते हैं। पिछले साल जगमोहन की मुलाकात मानकपुर आदमपुर थाना झबरेड़ा निवासी नवीन से हुई थी। नवीन ने कोचिग संचालक को बताया कि वह सिंगापुर स्थित एक कंपनी में सुपरवाइजर के पद पर तैनात है।

नवीन ने उन्हें विश्वास में लेने के लिए उनके व्हॉट्सऐप नंबर पर अपना आइकार्ड भी भेजा। कोचिंग संचालक को उसने बताया कि सिंगापुर के एक अस्पताल में नौकरी है, जिसकी एक लाख से अधिक सैलरी है। उसने बताया कि इसके लिए उन्हें दो लाख रुपये देने होंगे। साथ ही पहली सैलरी भी उन्हें ही देनी होगी। उसकी बातों में आकर जगमोहन सिंह ने एक अक्टूबर 2019 से दो जनवरी 2020 के बीच कुछ रकम नवीन के खाते में, जबकि कुछ रकम उसके परिवार के लोगों को दे दी। इसके बाद भी नौकरी नहीं लगी। कोचिंग संचालक ने नौकरी के लिए वीजा भिजवाने को कहा, तो वह आनाकानी करने लगा। जब कोचिंग संचालक ने अपनी रकम वापस मांगी, तो आरोपित ने रकम देने से इनकार कर दिया।

पीड़ित ने गंगनहर कोतवाली पुलिस को तहरीर दी। गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राजेश साह ने बताया कि आरोपित नवीन, ईश्वर पाल, बेगवती, शुभम निवासी मानकपुर, आदमपुर, थाना झबरेड़ा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राजेश साह ने बताया कि नवीन ने एयरपोर्ट और कई विदेशी लोकेशन पर वीडियो बनाकर टिकटॉक पर डाले हैं। उसने कोचिंग संचालक को झांसा देने के लिए वीडियो भी भेजे थे। इंस्पेक्टर ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है कि आरोपित विदेश में नौकरी करता है या फिर उसने फर्जी आइडी कार्ड बनाकर कोचिंग संचालक को दिया था
Share To:

Post A Comment: