मुजफ्फरनगर । लॉकडाउन के दौरान नियम तोड़ने वालों के खिलाफ एक ओर पुलिस सख्ती से पेश आ रही है तो दूसरी ओर कड़ी ड्यूटी के बीच पुलिसकर्मी असहाय गरीब और जरूरतमंदों का सहारा बनकर उनको मुफ्त राशन भिजवा रही है । ऊपर से जितनी सख्त, अंदर से उतनी नर्म.. ये पुलिस भी कुछ ऐसी ही है। लॉकडाउन के दौरान बेवजह घर से बाहर निकलने वालों को डंडे मारती पुलिस की तस्वीरें और विडियो देखे होंगे। अब इसी पुलिस का दूसरा रूप भी देखिए...लॉकडाउन के दौरान गरीबों और बेघरों के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करना भी मुश्किल हो गया है । ऐसे में पुलिस गरीब और जरूरतमंद लोगों को खाना परोस रही है ताकि कोई भूखा न रह जाए ।

मुजफ्फरनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव के निर्देश पर मुजफ्फरनगर के सभी थाना प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र में गरीब बस्तियों में खाना वितरित करने में जुट गए हैं। लोक डाउन के चलते कई गरीब बस्तियों से सूचना आ रही थी कि कुछ लोग भूखे हैं तो वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव ने सभी थाना प्रभारियों को आदेश दिया कि सभी थाना प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र में गरीब लोगों तक भोजन पहुंचाने की व्यवस्था करें, जिसके बाद सिविल क्षेत्र के साकेत चैकी प्रभारी उपनिरिक्षक सुनील नागर ने साकेत रोड स्थित सुनील व नीटू को बीस दिन को भोजन के पैकेट वितरित किए। उपनिरिक्षक सुनील नागर अपने इलाके में लॉक डाउन के पालन कराने का पूरा प्रयास करा कर रहें हैं। इसी के मद्देनजर आज साकेत चैकी प्रभारी सुनील नागर का कहना है कि सरकार के द्वारा लॉक डाउन में दी हुई समय सीमा में लोगो को रोककर हिदायत तो की तो वही बेवजह आने जाने वालों के खिलाफ वाहन चेकिंग अभियान चलाकर मोटरसाइकिल के चालान भी काटे हैं। सुनील नागर लोगो को भरसा भी दिला रहे हैं कि आप बेवजह परेशान ना हो आपकी समस्याओ का निस्तारण पुलिस कर रही हैं और आपके घर तक आपकी जरूरत का सामान मुहैय्या करा रही हैं, कृपया कर अपने घरों से कम निकले और हो सके तो जरूरी सामान लेने के लिए एक लोग ही निकले।
Share To:

Post A Comment: