गाजियाबाद । राष्ट्रीय सेवा योजना, एम एम एच कॉलेज इकाई की टीम द्वारा आज ज़ूम एप के माध्यम से लॉक डाउन 2.0 एवं इस वैश्विक महामारी में एन एस एस स्वयंसेवको की भूमिका विषय पर एक मीटिंग की गई । मीटिंग की अध्यक्षता रासेयो इकाई के अध्यक्ष एवं कॉलेज के प्राचार्य डॉ एम के जैन ने की. उन्होंने अपने संबोधन में सभी स्वयंसेवियो एवं कार्यक्रम अधिकारियों को कोरोना वॉयरस के संदर्भ में जागरूकता अभियान के शानदार कार्य के लिए बधाई देते हुए कोरोना की इस लड़ाई में सहयोग के लिए प्रोत्साहित किया । मीटिंग के प्रथम सत्र में कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती आरती सिंह ने स्वयंसेवको को कोरोना वायरस के बारे में विस्तार से बताते हुए स्वयंसेवको द्वारा किये जाने वाले कार्यो की कार्य प्रणाली के बारे में भी बताया । द्वितीय सत्र में डॉ प्रकाश चौधरी ने भारत सरकार द्वारा लॉक डाउन बढ़ाने के पीछे के कारण एवं "फाइट अगेंस्ट कोरोना" टीम द्वारा अब तक किये गए कार्यो के बारे में बताया । डॉ प्रकाश चौधरी ने सभी स्वयंसेवको से इस महामारी के दौरान  राष्ट्रीय सेवा योजना की भूमिका के बारे में चर्चा करते हुए लॉक डाउन में '10 का दम' या '10 कदम' आगे बढ़कर अपने आस पास कार्य करने के बारे में कहा उन्होंने कहा कि हमारी सबसे पहली प्राथमिकता अपने आस पास के कम से कम 10 घरों सुरक्षा, मानसिक एवं शारिरिक रूप से करना है. इसी के साथ हमे मास्क निरन्तर बनाते रहना है, आरोग्य सेतु एप सभी से डाऊनलोड करने का आग्रह करने है एवं राष्ट्रीय सेवा योजना, उत्तर प्रदेश की मुहिम *मुस्कुराएगा इंडिया* में भी हिस्सेदारी करनी है । उन्होंने स्वयंसेवको से निवेदन करते हुए कहा कि हमे लॉक डाउन को बोझ नही समझना है बल्कि हमे नई नई चीजें सीखने की कोशिश करनी है जैसे - हम बुजुर्गों के जीवन अनुभव को जान सकते है, पोस्टर बना सकते है, ऑनलाइन कोर्स कर सकते है, अच्छे व्यंजन बना सकते है, अच्छी किताबे पढ़ सकते है, बोर्ड गेम खेल सकते है आदि । सभी स्वयंसेवको ने इस मीटिंग में उत्साह के साथ भाग लिया एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के आदर्श वाक्य "मैं नही आप" या "मुझको नही तुमको" की भावना के साथ कार्य करने की प्रतिज्ञा ली ।
Share To:

Post A Comment: