रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार
9410563684



                             गन्ना जिस की दुर्दशा आपके सामने है चरखीओं मे ₹150 कुंटल लागत मूल्य से कम पर भी बेचने के लिए मजबूर है किसान की अगली फसल गेहूं पकी खड़ी है लाई में दांतीपड़ चुकी है
 लाइ काटने वाले 4 गुना 4 गुना बढ़ाकर दिहाड़ी मांग रहे हैं कोरोना को भगाने के लिए सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ेगा एक कहावत है पगड़ी बांधते फसल पछेती वह अगेती हो जाती है भारतीय किसान यूनियन अंबावता उत्तराखंड सरकार से मांग करती है  के किसानों  के बुरे हालातों  व दिन प्रतिदिन कर्जे का भोज बढ़ता जा रहा है इसकी जिम्मेदारी सरकार को  लेते हुए अन्नदाता कहे जाने वाले किसान को जिंदा रखने के लिए सरकार द्वारा किसानों  का कर्जा माफ करने व किसान वृद्धा पेंशन ₹5000 तुरंत आदेश कर देने चाहिए इसकी मांग  भारतीय किसान  यूनियन अंबावता करती है  जय हिंद जय जवान जय किसान
Share To:

Post A Comment: