रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार 
 9410563684




                       अपनी जीवन लीला समाप्त करने का प्रयास किया लेकिन आसपास के लोगों ने समय रहते इस घटना से महिला को बचा लिया और आनन-फानन में उसे १०८ की मदद से सिविल हॉस्पिटल भर्ती कराया। जहां महिला की हालत को गंभीर देखते हुए उस हायर सेंटर रेफर कर दिया। घटना के समय घर पर कोई नहीं था।महिला के तीन बच्चे भी है। बताया गया है कि पीड़िता का पति रोजमर्रा का मजदूर था। लेकिन लॉक डाउन के चलते घर पर राशन का संकट गहरा गया था। जिसके चलते घर में खाने की समस्या उत्पन्न हो गई थी। इसी बात को लेकर पति पत्नी के बीच झगड़ा हो गया था। पति शहजाद ने बताया कि उन्हें सिर्फ एक ही बार राशन मिल पाया। उसके बाद से उन्हें कोई सुविधा नहीं मिली। शहजाद ने सरकार व प्रशासनिक अधिकारियों पर आरोप लगाया कि लॉक डाउन में गरीब तबके के लिए सरकार कोई राहत नहीं पहुंचा रही और न ही अधिकारी गरीब की मदद को आगे आ रहे है। गरीबी के कारण उसकी पत्नी ने आत्महत्या जैसा कदम उठाया।
Share To:

Post A Comment: