समाजसेवी चौधरी पंकज कुमार
 डॉक्टर सुशांत सिंह व डॉक्टर जसकिरण जसकिरण राघव
मोदीनगर । जहां लोग डाउन के चलते डॉक्टरों को भगवान का रूप दिया गया वहीं मोदीनगर के कुुछ डॉक्टर अपने शैतानी रूप से बाज नहीं आ रहे हैं  ।  जी हां कल शाम को एक इमरजेंसी होने पर जहाँ मोदीनगर शहर के कुछ डॉक्टरों ने एक गर्भवती महिला को भर्ती नहीं किया न ही एम्बुलेंस उपलब्ध कराई गई बस रैफर कर दिया दूसरे हॉस्पिटल में, जैसे ही मामला समाजसेवी चौधरी पंकज कुमार के संज्ञान में आया उन्होंने अपने परिचित डॉक्टर सुशांत सिंह और जसकिरण राघव से बात की । उन्होंने महिला की नाजुक स्तिथि को देखते हुए उचित सहायता की । एम्बुलेंस न होने के कारण चौधरी पंकज कुमार खुद अपनी गाड़ी से पेसेंट को पहले भोजपुर फिर मेरठ के एक नामी हॉस्पिटल में ले गये । जहाँ पर रात को उस महिला ने 8 महीने के बेटे को जन्म दिया जो फिलहाल अभी डॉक्टर की देख रेख में है । स्तिथि आप भली भांति समझ सकते हो अगर समय रहते चौधरी पंकज कुमार मदद नहीं करते तो क्या से क्या हो सकता था । चौधरी पंकज ने कहा कि मैं धन्यवाद करता हूँ दोनों साथियों को जिन्होंने समय रहते मदद की और मानवता दिखाई । असली योद्धा वो होता है जो समय पर साथ दे ना की बाहना बनाये । यह वही चौधरी पंकज कुमार है जो कुछ दिन पूर्व मेरठ न्यूट्रिमा हॉस्पिटल में ब्लड डोनेट करने जा रहे थे तो जागरण तिराहे पर मेरठ पुलिस ने उनका मजबूरी बताने के बावजूद भी मेरठ पुलिस ने 3500 का चालान कर दिया था मगर उनकी हिम्मत नहीं टूटी और बराबर समाज सेवा में लगे हैं । 
Share To:

Post A Comment: