वीडियो देखने के लिए 👇👇👇नीचे क्लिक करें
मोदीनगर । जनपद गाजियाबाद के कस्बा मोदीनगर का एक ऐसा मामला सामने आया है जहां पर मोदीनगर के नामी अस्पतालों में महिला का सिर्फ इसलिए इलाज नहीं किया गया कि वह एक मुस्लिम थी और अगर इलाज भी किया गया तो जातिसूचक व मानसिक प्रताड़ित करके बिना देखे दवाई दी गई । महिला ने बताया कि ब्लीडिंग अधिक होने पर उसका पति इमरान पुत्र इंसाद निवासी कलछीना उसको लेकर मोदीनगर के नामी हॉस्पिटल प्रियदर्शी हॉस्पिटल,सिटी केयर हॉस्पिटल,प्यारेलाल हॉस्पिटल व जीवन हॉस्पिटल में लेकर गया । जहां पर उन्हें यह कहकर टरका दिया गया कि यहां पर कोई भी डॉक्टरनी नहीं है जबकि वहां पर मरीजों की काफी लंबी लाइन लगी थी और हद तो तब हो गई जब जीवन हॉस्पिटल में नंबर आने पर डॉक्टर ने नर्स को हडकाया और कहा कि तुम्हें दिखता नहीं की यह मुस्लिम है बिना देखे आप नंबर क्यों दे देते हो आगे से अगर ऐसी गलती की तो तुम्हारी खैर नहीं होगी । आपको बताते चलें कि प्रियदर्शी हॉस्पिटल संचालकों सतीश त्यागी व सरिता त्यागी द्वारा नामी सामाजिक संगठन पहल एक प्रयास चलाया जा रहा है और प्यारेलाल हॉस्पिटल के संचालक आईएमए के अध्यक्ष योगेश सिंघल हैं । जबकि जीवन हॉस्पिटल वर्तमान मोदीनगर विधायक मंजू सिवाच व देवेंद्र शिवाच का है । सिटी केयर हॉस्पिटल पल्लवी मिश्रा की देखरेख में चल रहा है । जहां पर ज्यादातर मुस्लिम लोग ही अपना इलाज कराने के लिए जाते हैं । अब सवाल यह उठता है कि जब डॉक्टर लोग ही जाति धर्म को देख कर इलाज करेंगे तो बाकी लोगों का क्या होगा ? सुनकर महिलाा के परिजनों व ग्रामीणों में आक्रोश है ।
Share To:

Post A Comment: