मोदीनगर । अधिकांश उत्तर प्रदेश पुलिस व गाजियाबाद पुलिस हमेशा विवादों में रहती है लेकिन ऐसा क्या किया गाजियाबाद पुलिस ने कि जिसकी गूंज यूपी के देवरिया जिले से लेकर पूरे देश मे हो गई ।
मोदीनगर कोतवाली पुलिस ने 30 साल बाद बेटे को उसकी मां से मिला कर अपने फर्ज को दो कदम आगे बढ़ाने का काम किया है लॉकडाउन में बेरोजगार होने के बाद काम की तलाश में महिला मेरठ से मोदीनगर पहुंची महिला को अपने जिले का नाम याद था लेकिन गांव का नहीं पुलिस ने कई घंटों की कोशिश के बाद महिला के परिजनों से संपर्क में आई महिला का बेटा रिश्तेदार के साथ थाने पहुंचा और मां को देखकर बिलख । पड़ा यह देख थाने में सभी पुलिसकर्मियों की आंखें नम हो गई ।
30 साल पहले महिला पति से विवाद के बाद देवरिया छोड़ कर चुपचाप मेरठ पहुंच गई थी और वहां पर घरों में मेड का काम करने लगी थी । सप्ताह भर पहले काम की तलाश में भटकती हुई महिला मोदीनगर थाने पहुंच गई इसी बीच थाना प्रभारी निरीक्षक की नजर उस महिला पर पड़ी तो उन्होंने पूछताछ की और महिला को खाना खिलाया महिला काम मांगने की जिद पर अड़ी रही काम नहीं मिलने की बात सुनते ही महिला रोने लगी ।
घर का पता पूछने पर महिला भावुक हो गई और महिला ने कोतवाल को आपबीती सुनाते हुए बताया कि उसका नाम पार्वती है और वह देवरिया जिले की रहने वाली है पति से विवाद होने के बाद चुपचाप घर छोड़कर मेरठ आकर घरों में मेड का काम करने लगी थी । लेकिन लोक डाउन और कोरोना वायरस के चलते अब महिला को कोई काम नहीं दे रहा था काफी प्रयास के बाद महिला अपने गांव का नाम नहीं बता पाई इसके बाद कोतवाल ने इंटरनेट के माध्यम से देवरिया जनपद के सभी थानों के नाम खोज कर एक एक महिला के नाम सुनाएं इसमें खूखुद थाने का नाम सुनते ही महिला को कुछ याद आया उसके बाद उस थाना क्षेत्र के सभी गांव से लापता महिलाओं के नाम गिनाए गए उसके बाद देवरिया पुलिस ने भी सभी गांव के नाम महिला को बताएं ।
महिला ने अपने गांव बहसा का नाम पहचान लिया तब जाकर मोदीनगर पुलिस की सांस में सांस आई तभी थाना प्रभारी ने बहसा गांव के प्रधान का मोबाइल नंबर लेकर उन्हें इस मामले की जानकारी दी ग्राम प्रधान संतोष सिंह ने महिला के परिजनों को सूचना दी ।
एक बार तो परिजनों को पार्वती की जिंदा होने का यकीन ही नहीं था लेकिन व्हाट्सएप पर महिला का फोटो देख उनकी खुशी का ठिकाना ना रहा ।
जानकारी लगते ही पार्वती का परिवार खुश हो गया व पार्वती का पुत्र रवीश कुमार अपने रिश्तेदार के साथ मोदीनगर थाने पहुंचा और मां के पैरों पर गिर कर रोने लगा यह भावुक पल देखकर मोदीनगर थाने में सभी पुलिस कर्मी भी भावुक हो गए कागजी कार्रवाई के बाद महिला को परिवार के सुपुर्द कर दिया ग ।
परिवार से मिलने के बाद महिला व उसके परिवार वालो ने गाजियाबाद पुलिस को लाखों लाखो बधाई भी दी ओर पुलिस का आभार व्यक्त किया ।
Share To:

Post A Comment: