रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार
9410563684

                   महासागर के सकारात्मक और नकारात्मक बिंदुओं के प्रति लोगों को जागरूक किया गया यूथ फर्ज वेलफेयर फाउंडेशन के संस्थापक डॉ प्रदीप कर्णवाल ने कहा कि महासागर को पृथ्वी ग्रह की स्वास नली कहा जाता है। क्योंकि यह विशाल जल निकाय है । अधिकांश ऑक्सीजन यह महासागर हीप्रदान करते हैं। और इसी से हम श्वास लेते हैं। पृथ्वी की जलवायु को नियंत्रित करने में महासागरों की अहम भूमिका है।
 महासागरों में कचरे में बढ़ते प्लास्टिक प्रदूषण की मात्रा महासागरों के संरक्षण के लिए एक ठोस योजना  की आवश्यकता है ।संस्था की अध्यक्षा मोनिका ने बताया कि विश्व महासागर दिवस पर 2020 की थीम पर महासागर के लिए लगभग 1 मिलियन समुद्री पक्षी और एक लाख के लगभग समुद्री जीव जंतु प्रत्येक वर्ष प्लास्टिक प्रदूषण से अपनी जान गवाते हैं। महासागरों में प्रोटीन की अधिक मात्रा के लिए हम समुद्र पर निर्भर रहते हैं महासागर  लगातार प्रदूषित हो रहा है। प्रदूषण के कारण तूफान बनने आसपास की हवा के तापमान और आर्द्रता में अधिक बदलाव हो रहे हैं इस दौरान शुभम, शीतल, प्रांजल, राहुल, बाबू, सुरेश, चंद्र नौटियाल, आदि लोग उपस्थित रहे।
Share To:

Post A Comment: