रिपोर्ट जावेद अंसारी ब्यरो चीफ उत्तराखंड

भारतीय जनसंघ के संस्थापक डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती सोमवार को बड़ौत विधानसभा के गाँव वाजिदपुर स्थित साक्षी शिवम एजुकेशन पब्लिक स्कूल पर मनाई गई सर्व प्रथम उनके चित्र पर फूल चढ़ाकर पुष्पांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व जिला उपाध्यक्ष डा नीरज कौशिक ने कहा कि हम जैसे करोड़ों कार्यकर्ताओं के प्रेरणा स्रोत, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के रूप में देश को एक ऐसा दूरदर्शी नेता मिला जिसने भारत की समस्याओं के मूल कारणों व स्थायी समाधानों पर जोर दिया और उनके लिए जीवन पर्यन्त संघर्ष किया। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर केन्द्रित जन संघ और आज की भाजपा डॉ. मुखर्जी की ही दूरदर्शिता का परिणाम है।
भारतीय जनता पार्टी के देवपुरुष मुखर्जी ने कश्मीर के लिए लंबे समय तक संघर्ष किया आज जिस ऊंचाई पर भाजपा खड़ी है और अनेक राज्यों में हमारी सरकार है ये हमें मार्ग दिखाने वाले डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के बलिदान का ही प्रमाण है।
डॉ. नीरज कौशिक ने बताया कि डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के भारतीय जनसंघ के संस्थापक रहे उनका जन्म छह जुलाई 1901 में कोलकाता के प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था इंग्लैंड से बैरिस्टर बन कर लौटे अलख जगाने के उद्देश्य से राजनीति में प्रवेश किया। 1942 में ब्रिटिश शासन ने सभी नेताओं को जेल में बंद किया तब ये भी भारत छोड़ो आंदोलन के कारण जेल में बंद हुए 3 जून 1953 में रहस्मयमय परिस्थितियों में जम्मू कश्मीर की जेल में उनका निधन हो गया था।
कार्यक्रम में मंडल अध्यक्ष सत्यबीर सिहं, जिला मिडिया प्रभारी पवन शर्मा, मंडल महामंत्री मास्टर सत्येंद्र तोमर, पूर्व जिला मंत्री मनोज कटारिया, बड़ौत मंडल उपाध्यक्ष गौरव शर्मा (भानू) एवं मंडल पदाधिकारी आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।
Share To:

Post A Comment: