रिपोर्ट ब्रह्मानंद चौधरी ब्यूरो चीफ हरिद्वार के साथ में रुड़की से इमरान देशभक्त की रिपोर्ट
9410563684



           उत्तराखंड उर्दू अकेडमी के पूर्व उपाध्यक्ष व प्रसिद्ध शायर अफ़ज़ल मंगलौरी ने कहा कि राहत इन्दौरी गंगाजमुनी तहजीब के ऐसे शायर थे,जिनकी शायरी में हिन्दीस्तानीयत और मोहब्बत का पैगाम मिलता था।मंगलौरी ने कहा कि राहत इन्दौरी को देवभूमि उत्तराखंड से बेहद लगाव था,खास तौर से पिराण कलियर दरगाह से वो बेहद अकीदत रखते थे,कई बार वे दरगाह के मुशायरों में उनके निमंत्रण पर आए और रुड़की भी अनेक बार मुशायरों में शरीक हुए।पिछले वर्ष कोर कालेज के कवि सम्मेलन में  विख्यात कवि हरिओम पवांर जी के साथ बुलाया गया था,जिसमें उन्होंने खूब वाह वाही लूटी थी।मंगलौरी ने बताया कि राहत जी के साथ पिछले 30 वर्षों में उनको अनेक देशों में साहित्यिक यात्रा करने का अवसर मिला।उन्होंने उनके साथ अंतिम मुशायरा लॉकडाउन से पूर्व हैदराबाद में पढ़ा था जो शायद उनका आखरी कार्यक्रम था।उन्होंने कहा वे जहाँ एक उच्च कोटि के शायर,फिल्मी गीतकार व राइटर थे,वहीं बेहतरीन इंसान भी थे।उनके निधन से अच्छी शायरी का एक युग समाप्त हो गया।
Share To:

Post A Comment: