रामपुर । प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए। राज्यमंत्री ने फेसबुक अकाउंट से पोस्ट डालकर जानकारी दी है।वो होम आइसोलेट हो गए हैं। उन्होंने पिछले कुछ दिनों में उनके संपर्क में आने वाले लोगों से भी कोविड जांच कराने की अपील की है। राज्य मंत्री के कोरोना पॉजिटीव निकलने के बाद जिले के अधिकारियों, नेताओं और उनके समर्थकों में हड़कंप मचा हुआ है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश सरकार में जलशक्ति राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख ने शुक्रवार शाम को अपने फेसबुक अकाउंट से पोस्ट कर कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी है। राज्यमंत्री ने वताया कि उन्होंने लक्षण दिखाई देने पर होने पर एंटीजन जांच कराई, जिसमें वह कोरोना पॉजिटिव पाये गए। इसके बाद उन्होंने चिकित्सीय परामर्श पर स्वयं को होम आइसोलेट कर लिया है। उन्होंने उन सभी लोगों से भी कोविड जांच कराने की अपील की है जो कि पिछले कुछ दिनों में उनके संपर्क में आए थे।

राजयमंत्री औलख लगातार कर रहे थे केंद्रीय गाइड लाइन का उलंघन
वहीं हुआ जिसका अंदेशा लगाया जा रहा था। राज्यमंत्री लगातार जन सम्पर्क के दौरान केंद्र सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का उलंघन करते रहे। लेकिन किसी ने भी उन्हें ऐसा करने से नहीं रोका। लॉकडाउन के दौरान राशन वितरण में मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई गयी। उत्तराखंड तहलका ने खबर प्रकाशित कर उन्हें चेताया भी। लेकिन बजाये समझने के वह लगातार नियमों का उलंघन करते रहे। जिसका नतीजा ये हुआ कि वह स्वयं तो कोरोना की चपेट में आये ही। तमाम अन्य लोगों की जान को भी जोखिम में डाल दिया।

एक जनप्रतिनिधि होने के चलते उन्हें अपने क्षेत्र के लोगों को कोविड 19 के नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित करना चाहिये था। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। जिसका खमियाजा उनके समेत पिछले कुछ दिनों में उनके सम्पर्क में आये हजारों लोगों को भुगतना पड सकता है। पिछले करीब सप्ताह से तो उन्होंने लोगों से मिलने का ऐसा अभियान छेड़ रखा था, जैसे अब देश से कोरोना भाग गया हो।

पिछले एक सप्ताह में इन कार्यक्रमों में हुए थे राजयमंत्री शामिल
पिछले एक सप्ताह में राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख ने 29 अगस्त को खेमपुर निवासी पंप स्वामी प्रवेश कुमार की हत्या के बाद उनके घर जाकर शोक संवेदनाएं व्यक्त की थीं। 30 अगस्त को चंदायन गांव में भाजपा में शामिल हुए लोगों के सम्मान समारोह में शामिल हुए थे। साथ ही कुछ स्थानों पर शोक संवेदनाएं व्यक्त की थी। 31 अगस्त को अमरदीप होटल में ग्राम पंचायत अधिकारी संघ के जिलाध्यक्ष के विदाई समारोह में शिरकत की थी और एक सितंबर को बैंक प्रतिनिधियों के सम्मान समारोह कार्यक्रम में भी शामिल हुए थे। अब देखना ये होगा कि आने वाले समय में भी राज्यमंत्री इसी तरह लापरवाही करते रहेंगे या नियमों का सख्ती से पालन करेंगे ।
Share To:

Post A Comment: